बिहार में गरीबों के आए अच्छे दिन, 45 दिनों के अंदर बनकर तैयार हो जाएंगे 6 लाख इंदिरा आवास

Patna : बिहार में अब जिन गरीब लोगों के सर पर छत नहीं हैं उन्हें बहुत जल्द अपना मकान मिलने वाला है। उनका सपना जल्द ही पूरा होने वाला है। बिहार सरकार इस क्षेत्र में तेजा से काम कर रही है। इंदिरा आवासों के निर्माण में तेजी ला रही है। सबकुछ ठीक रहा तो अगले 45 दिनों में छह लाख अधूरे पड़े इंदिरा आवासों को पूरा कर लिया जाएगा।

ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार ने बताया कि अगले 45 दिनों में छह लाख अधूरे पड़े इंदिरा आवासों का निर्माण पूरा कर लिया जाएगा। तय समय पर काम पूरा करा लेने की जवाबदेही डीडीसी एवं बीडीओ को सौंपी गई है। उन्होंने बताया कि ये इंदिरा आवास 2012-13 से 2015-16 के दौरान स्वीकृत हुए थे। उनके मुताबिक, 2016 में अधूरे पड़े इंदिरा आवासों की संख्या 19 लाख थी, जिसे विभाग ने बहुत प्रयास कर अब छह लाख तक किया है।

मंत्री ने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत स्वीकृत के 135 दिनों के अंदर आवासों का निर्माण कार्य पूरा करा लेने वाले अधिकारी पुरस्कृत किए जाएंगे। इन्हें आर्थिक प्रोत्साहन भी दिया जाएगा। परन्तु, अगर छह माह के अंदर आवासों का निर्माण पूरा नहीं हुआ तो प्रखंड विकास पदाधिकारी, प्रधानमंत्री आवास के पर्यवेक्षक एवं सहायक को दंडित किया जाएगा। संविदा पर नियुक्त को बर्खास्त तो वहीं नियमित नौकरी वालों के खिलाफ विधिसम्मत कार्रवाई की जाएगी। फिलहाल 6,87,274 आवास स्वीकृत हैं जिनमें से 45,514 का निर्माण पूरा हो चुका है।

श्रवण कुमार ने बताया कि इंदिरा आवास एवं प्रधानमंत्री आवास योजना में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले कुछ जिलों को पुरस्कृत किया गया है। इनमें शेखपुरा, किशनगंज, कैमूर, मुंगेर एवं सिवान शामिल हैं। उन्होंने बताया कि शिथिलता बरतने वाले 25 आवास कर्मियों का अनुबंध रद किया गया है। कई प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं उपविकास आयुक्तों से स्पष्टीकरण भी मांगा गया है। मंत्री ने बताया कि केंद्र सरकार से 4117.68 करोड़ की राशि विमुक्त करने का अनुरोध किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *