सिपाही बहाली में फर्जीवाड़ा, नौकरी के बदले अब जाना होगा जेल, ज्वॉइनिंग से पहले पकड़ी गई चालाकी

bihar police

Patna :हर साल के भाटी इस बार बिहार पुलिस की बहाली होने वाली थी। लेकिन एक बार फिर बिहार में सिपाही के 9900 पदों पर इस साल हुई बहाली में फर्जीवाड़े का नया और बेहद चौंकाने वाला मामला सामने आया है। सिपाही पद में 100 से ज्यादा अभ्यर्थियों की चालाकी चयन पर्षद ने ज्वाइनिंग से ठीक पहले पकड़ ली। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा की ये सब सिपाही बनेगे। अब इन सब को जेल जाना होगा अपने फर्जीवाड़े की वजह से। हर साल की तरह इस साल भी हज़ारों की संख्या में अभ्यर्ती आये थे।

इस बार कुल 9900 पदों के लिए विज्ञापन निकला था। जिसके लिए आवेदन दिए गए थे। पिछले वर्ष ही लिखित परीक्षा आयोजित हुई। उसके बाद शारीरिक परीक्षा भी हुई थी। रिजल्ट जारी करने के पहले केन्द्रीय चयन पर्षद (सिपाही भर्ती) जब कागजात की पड़ताल कर रहा था। लेकिन मामला यही खत्म नहीं होता। उसमें से 417 अभ्यर्थियों के हस्ताक्षर नहीं मैच हो रहे थे। इन अभ्यर्थियों को बुलाया गया और उनसे हस्ताक्षर के साथ लिखावट के नमूने लिए गए। और सबसे गज़ब की बात ये थी की इनके हस्ताक्षर बिलकुल भी मैच नहीं किये।

bihar police

इस गरबड़ी को देखते हुए सबकी गड़बड़ी की आशंका को देखते हुए इनके रिजल्ट को पेंडिंग में रखा गया था। शक के आधार पर चयन पर्षद ने परीक्षा के दौरान दिए गए हस्ताक्षर और ओएमआर सीट पर मौजूद लिखावट के साथ अभ्यर्थियों से लिए गए नमूने को सीआईडी के अधीन पुलिस प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजा। 417 में 233 अभ्यर्थियों की जांच रिपोर्ट आई तो शक यकीन में बदल गया। इनमें 229 की रिपोर्ट स्पष्ट है जबकि बाकी के चार में संशय है, लिहाजा उनके संबंध में विशेषज्ञों की राय दोबारा ली जाएगी। बिहार पुलिस में हर बार कुछ न कुछ गड़बड़ी निकलती रहती है। इसके लिए किसको दोषी ठहराया गया। सरकार को इस बात पर ध्यान देना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *