आपदा प्रबंधन के स्थापना दिवस पर बोले नीतीश, किसी का उतारा कपड़ा नहीं पहनेंगे बिहारी

Patna : नीतीश कुमार ने कही एक ऐसे बात जिससे सब सहमत है। नीतीश कुमार ने काफी तीखे बात किये। आपदा को लेकर मदद करने में कोई नहीं जुटता है, बल्कि मामले को हाइलाइट कर बदनाम करने का काम करते हैं। यह बात उन्होंने कोसी उत्तर बिहार में हर साल बाढ़ से भीषण तबाही लाने वाली कोसी नदी साल 2008 में नेपाल में कुसहा बाँध के टूटने के कारण कुछ ज़्यादा ही विकराल हो गई थी। उन्होंने कहा की कोई आपदा में मदद नहीं करता बल्कि और बदनाम करने का काम करते हैं। कोई मदद भी करता है तो गुणवत्ता का कोई ख्याल नहीं रखा जाता। बिहार के लोग किसी का उतारा हुआ कपड़ा नही पहनेंगे। यह बात किसी और ने नहीं बल्कि खुद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा।

बिहार आपदा प्रभावित राज्य है। यहां बाढ़, सुखाड़ जैसी आपदा तो हमेशा आती रहती है, लेकिन भूकंप की आशंका भी बनी रहती है। हमलोगों का दृष्टिकोण स्पष्ट है कि आपदा पीड़ित परिवार को बचाएं और उनकी सहायता करें। सीएम ने कोसी आपदा को याद करते हुए कहा कि उस समय केंद्र और कई राज्यों ने मदद के नाम पर पुराने कपड़े देने के लिए संपर्क किया। आपदा के बारे में लोगों में जागृति जरूरी है। ये बातें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को कहीं। वे अधिवेशन भवन में बिहार राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (बीएसडीएमए) के 11वें स्थापना दिवस समारोह को संबोधित कर रहे थे।

nitish kumar

गुजरात के भूकंप से आयी जागरूकता सीएम ने कहा कि वर्ष 2002 में गुजरात में आये भूकंप के दौरान वे केंद्र में कृषि मंत्री थे। सदन में सरकार का पक्ष इस संबंध में उन्हें रखना था। उन्होंने कहा कि हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती भूकंप है। जिसके लिए सरकार जनजागरूकता कार्यक्रम के प्रति गंभीर है. वहीं पटना विश्विद्यालय के वीसी को आपदा से जुड़े जानकारी की पाठ्यक्रम में जल्दी जोड़ने को कहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *