पटना में बनेगा इंटरनेशनल एयरपोर्ट, केंद्र की मोदी सरकार ने दी 1217 करोड़ की मंजूरी

PATNA : मोदी सरकार ने बिहार को सौगात देते हुए पटना के जयप्रकाश नारायण अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर 1216.90 करोड़ रुपये की लागत से डोमेस्टिक टर्मिनल की नई इमारत के निर्माण को मंजूरी दी है। निर्माण से हवाई अड्डे की क्षमता बढ़कर 45 लाख यात्री प्रति वर्ष हो जाएगी। यह परियोजना प्रधानमंत्री द्वारा 2015 में बिहार चुनाव से पूर्व घोषित किए गए बिहार पैकेज का हिस्सा है। अक्टूबर से पटना एयरपोर्ट के विस्तार के साथ ही इसे नई शक्ल देने की कवायद शुरू हो जाएगी। राज्य सरकार ने एयरपोर्ट के लिए जितनी जमीन की आवश्यकता थी उसकी व्यवस्था भी कर दी है।

इंटरनेशनल एयरपोर्ट की तर्ज पर होगा विकास : एयरपोर्ट का दिल्ली के विकास इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की तर्ज पर किया जाएगा। पहला टर्मिनल आज जहां एयरपोर्ट है वहां होगा, इसका विस्तार वर्तमान स्टेट हैंगर तक होगा। जबकि दूसरा टर्मिनल भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आइसीएआर) की जमीन पर बनेगा। इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट की तर्ज पर होगा विकास : एयरपोर्ट का दिल्ली के विकास इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे की तर्ज पर किया जाएगा। पहला टर्मिनल आज जहां एयरपोर्ट है वहां होगा, इसका विस्तार वर्तमान स्टेट हैंगर तक होगा। जबकि दूसरा टर्मिनल भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आइसीएआर) की जमीन पर बनेगा।

पटना हवाई अड्डे की कायाकल्प के क्रम में यहां ओमनी डायरेक्शनल एंटीना, आइसोलेशन-वे भी बनाने का प्रस्ताव है। इस कार्य के लिए मंत्रलय ने पर्यावरण एवं वन विभाग की नर्सरी और वेटनरी कॉलेज की तकरीबन 45 एकड़ जमीन की मांग की है। मंत्रलय यहां उच्च क्षमता का ओमनी डायरेक्शनल एंटीना लगाएगा साथ ही आइसोलेशन वे भी बनाएगा। ओमनी डायरेक्शनल एंटीना 360 डिग्री पर बिंब (रोशनी) फैलाएगा जिससे विमानों के लिए लैंड करना आसान होगा।परियोजना से देश में हवाई ढांचागत सुविधाओं में विस्तार होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *