स्कूलों में बच्चों को सिखाया जाएगा मैथिली भाषा और मिथिला पेंटिंग

QUAINT MEDIA,

SAMASTIPUR  : स्कूली बच्चों को अब हिन्दी, अंग्रेजी, संस्कृत सहित मैथिली की भी जानकारी मिलेगी। यही नहीं मिथिला पेंटिंग के बारीकियों के बारे में भी ज्ञान हासिल करेंगे। केंद्रीय मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय की ओर से एक भारत श्रेष्ठ भारत के तहत स्कूली छात्र अब भाषा के संगम में डुबकी लगाएंगे। वहीं मिथिला पेंटिंग के गूढ़ रहस्य को भी समझ कर उसे बनने का तरीका सीखेंगे। इसके तहत जिले के सभी प्रायमरी, अपर प्रायमरी, हाई और हायर सेकंडरी के सभी निजी और सरकारी स्कूलों के छात्र संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल सभी 22 भाषाओं को जान सकेंगे। इसके लिए जनवरी से सभी स्कूलों में प्रार्थना (असेंबली) के बाद प्रतिदिन एक भाषा के 5 वाक्यों से सभी छात्रों को अवगत कराया जाएगा। साथ ही एमएचआरडी के निर्देशानुसार इन वाक्यों को पोस्टर्स में उतारकर कक्षाओं की दीवारों पर लगाया जाएगा। इसके अतिरिक्त छात्रों को इन वाक्यों से परिवारजनों से भी साझा करने के लिए प्रेरित किया जाएगा। जिससे छात्रों के जहन में ये वाक्य बैठ जाएं और वे राष्ट्रीय स्तर पर किसी भी अन्य भाषी राज्य में सामान्य चर्चा में हिस्सा ले सकें।

school

21 को मनाया जाएगा मातृभाषा दिवस : बच्चों को संस्कृति और भाषाई विविधता से संबंधित मुकम्मल जानकारी को लेकर विद्यालयों में मातृभाषा दिवस मनाया जायेगा। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय, स्कूली शिक्षा व साक्षरता विभाग के संयुक्त निर्देश पर इसकी रणनीति तय की गई है। स्कूलों में 21 फरवरी को इस दिवस का आयोजन करना है। बच्चों में मातृभाषा के साथ ही अन्य भारतीय भाषाओं के उपयोग के लिए प्रोत्साहित करने के साथ ही देश की सभ्यता और संस्कृति सहित शिल्प कला, रचनात्मक अभिव्यक्ति एवं अन्य माध्यमों से विविधता से अवगत कराने का प्रयास होगा।