जुमलों के सरदार और बिहार के पलटूराम दोनों को बिहार की जनता ने नकार दिया है- तेज प्रताप यादव

Quaint Media Quaint Media consultant pvt ltd Quaint Media archives Quaint Media pvt ltd archives Live Bihar

PATNA : एनडीए की संकल्प रैली समाप्त हो गई और इसके साथ ही इस पेर विपक्षी दलों की प्रतिक्रियाएं भी आने लगी है।  लालू यादव के बड़े बेटे और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव ने गाँधी मैदान में हुई एनडीए की संकल्प रैली को फ्लॉप करार देते हुए कहा कि जुमलों के सरदार और बिहार के पलटूराम दोनों को बिहार की जनता ने नकार दिया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा  “जुमलों के सरदार और बिहार के पलटूराम दोनों को बिहार की जनता ने नकार दिया है। गाँधी मैदान में मोदी के फ्लॉप शो के बाद ये साफ हो गया है कि 2019 में इनकी जुमलों की दुकान ठप पड़ने वाली है।” ट्वीट के साथ ही उन्होंने एक कार्टून  भी शेयर किया।” 

रैली को जहाँ एनडीए ऐतिहासिक बता रही है वहीँ विरोधी दल इसे असफल करार दे रहे हैं। तेज प्रताप के पिता और राजद सुप्रीमो लालू यादव ने भी ट्वीट कर कहा कि रैली में जितनी भीड़ जुटी उससे ज्यादा भीड़ तो तब जुटती थी जब वो पान खाने के लिए गाँधी मैदान जाते थे।” कांग्रेस ने भी रैली को असफल करार दिया। कांग्रेस प्रवक्ता प्रेमचंद्र ने कहा कि इस रैली के लिए जम कर सरकारी पैसों और सरकारी तंत्र का दुरूपयोग किया गया, इसके बावजूद रैली पूरी तरह फ्लॉप रही। उन्होंने कहा कि पूरा गाँधी मैदान खाली था। तीन तीन पार्टी मिल कर भी गांधी मैदान नहीं भर पाए।  ये इतिहास की सबसे फ्लॉप रैली थी।

गौरतलब है कि रविवार को पटना के गाँधी मैदान में एनडीए की संकल्प रैली थी जिसमे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हुए थे। रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि चौकीदार की इमानदारी परेशान चोर इकट्ठे हो कर चौकीदार को ही गा’ली दे रहेहैं। उन्होंने कहा कि जनता को चिंता करने की जरूरत नहीं है।  चौकीदार चौकन्ना है। सुरक्षा चाहे देश की हो या गरीबों की, सबके लिए चौकीदार चौकन्ना है इसलिए देश की जनता चैन से रह सकती है। उन्होंने कहा कि देश की सुरक्षा के लिए जो भी फैसला होगा वो डंके की चो’ट पर लिया जाएगा। ये इसलिए संभव हो पाया है क्योंकि देश में मजबूत सरकार है। उन्होंने कहा कि देश पर बुरी नज़र रखने वालों पर दीवार बन कर खड़ा है ये चौकीदार।