पटना जंक्शन आउटर पर ट्रेनों को नहीं करना होगा प्लेटफार्म के लिए इंतजार, बनेगी नयी रेलवे लाइन

PATNA : पटना जंक्शन के आउटर पर ट्रेनों को अब घंटों इंतजार नहीं करना पड़ेगा। पटना जंक्शन के प्लेटफॉर्म हमेशा खाली मिलेगें। ट्रेनें स्मूथली आ-जा सकेंगी। जी हां प्लेटफॉर्म पर बेवजह घंटों ट्रेनें नहीं खड़ी होगी। रेलवे ने इस मामले में बड़ा डिसीजन लिया है। दानापुर रेल मंडल पटना से परसा बाजार रेलवे स्टेशन के बीच नयी रेलवे लाइन बनाने जा रही है ताकि ट्रेनों को वहां ख़ड़ा किया जा सके।


वर्तमान में ट्रेनों के बेवजह घंटों प्लेटफॉर्म पर खड़े रहने की वजह से प्लेटफार्म नंबर एक और दो पर ट्रेनों का लोड बहुत बढ़ जाया करता है। प्लेटफॉर्म खाली होने तक के लिए ट्रेनों को बेवजह आउटर पर खड़ा करना पड़ता है जिससे अक्सर यात्री पटना पहुंच कर भी उतरने के लिए घंटों इंतजार करते रहते हैं। इसका खामियाजा ज्यादातर डेली पैसेंजर्स को झेलना पड़ता है जो या तो ड्यूटी बजाने जा रहे होते हैं या ड्यूटी से लौट रहे होते हैं प्लेटफॉर्म पर ट्रेन लगने का इंतजार करते हैं।

नये रेल लाइन के बाबत दानापुर रेलमंडल के डीआरएम रंजन प्रकाश ठाकुर ने बताया कि पटना-परसा बाजार के बीच रेलवे की काफी जमीन है, जो फिलहाल बेकार पड़ी है। इस जमीन का उपयोग करते हुए नयी रेल लाइन शीघ्र बनाने का काम शुरू कर दिया जायेगा।

इस नये रेलवे लाइन को बनाने में रेलवे को ज्यादा मशक्कत भी नहीं करनी पड़ेगी। पटरियों के लिए रेलवे को इंतजार नहीं करना पड़ेगा। आर ब्लॉक-दीघा रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन बंद कर दिया गया है और जल्द ही पटरियों को उखाड़ने का काम शुरू होगा। वहीं, पटना सिटी-पटना घाट के बीच भी पटरियों को उखाड़ने की प्रक्रिया शुरू होने वाली है। इन्ही पटरियों से पटना-परसा बाजार के बीच नयी रेल लाइन बिछायी जायेगी। इससे रेलवे को नयी पटरियों की जरूरत नहीं पड़ेगी।

रांची से पटना और हावड़ा से पटना आने वाली जनशताब्दी एक्सप्रेस रात 10 बजे पटना पहुंचती हैं। इसके बाद अगले दिन सुबह दोबारा खुलने तक ट्रेनें प्लेटफार्म पर ही खड़ी रहती हैं। इस ट्रेनों का मेंटेनेंस भी प्लेटफॉर्म पर ही होता है और सुबह छह बजे रांची व हावड़ा के लिए रवाना होती हैं। वहीं दिन के वक्त में जय नगर इंटरसिटी, सहरसा इंटरसिटी, कटिहार इंटरसिटी सहित दर्जनों ट्रेनें घंटों पटना जंक्शन प्लेटफॉर्म पर खड़ी रहती हैं।