लालू यादव जेल से बाहर होते तो महागठबंधन और मजबूत होता: उपेन्द्र कुशवाहा

पटना: रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा(Upendra Kushwaha) महागठबंधन में तो आ गए हैं लेकिन वो अभी भी महागठबंधन की मजबूती को लेकर परेशान हैं। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को चारा घोटाला में बेल नहीं मिलने से उपेन्द्र कुशवाहा(Upendra Kushwaha)को काफी निराशा हुई है। कुशवाहा ने कहा है कि अगर लालू यादव बाहर होते ते महागठबंधन और भी मजबूत स्थिति में होता और हम बीजेपी को कड़ी टक्कर दे रहे होते।

दरअसल महागठबंधन में शामिल तमाम घटक दलों को उम्मीद थी कि लालू यादव को झारखंड हाइकोर्ट से बेल मिल जाएगी। लेकिन ऐसा नहीं होने से न सिर्फ आरजेडी बल्कि महागठबंधन के शामिल सभी दलों को झटका लगा है। लोकसभा चुनाव से पहले अगर लालू यादव जेल से बाहर हो जाते हैं तो बीजेपी को बिहार में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ेगा।

कुशवाहा ने लगे हाथों नीतीश कुमार को एक बार फिर घेरा। नीतीश के नीच वाले बयान पर पलटवार करते हुए कुशवाहा ने कहा कि मुख्यमंत्री की जुबान इतनी गंदी हो जाए तो यह शर्म की बात है। नीतीश कुमार इतने नीचे गिर जाएंगे यह शोभा नहीं देता है। हद तो तब हो गई जब वो किसी को सड़क छाप तो किसी को नीच कहने लगे हैं।

कुशवाहा ने राम मंदिर निर्माण को लेकर बीजेपी पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि यह बीजेपी का चुनावी स्टंट है। उन्होंने कहा कि राम मंदिर बीजेपी के लिए केवल चुनाव भर के लिए सिर्फ मुद्दा रहता है। राम मंदिर बनाने की नियत कभी बीजेपी की नहीं रही है।